कैसे बना टीम इंडिया का स्टार, जिसकी हैसियत नया बैट खरीदने तक नहीं थी

आज मैं आपके साथ एक ऐसे शर्मीले व्यक्ति की Hindi Biography शेयर करने जा रहा हूँ। जिसके पास बचपन में बैट खरीदने के लिए पैसा नहीं था। Even वे इतने गरीब थे कि उन्हें अपने दादा और चाचा के पास चाचा के पैसों पर जीवन, पढ़ाई और खेलकुद करना पड़ता था। Cross bated शॉट नहीं खेलते थे। कहीं बैट टूट गया तो अगले दिन कौन नया बैट लाकर देगा ? आज के टाइम में उनके batting को Sleeping Beauty कहा जाता है, जो 50-60 रन के बाद कब 100 और 100 से 150 तक पहुँच जाता है। पता ही नहीं चलता। ये और कोई नहीं Indian Cricket Team के Opener Rohit Sharma है, जो मेरे Favorite है। जिनका ऑफ साइड कट शॉट फेवरिट है।

Rohit Sharma Hindi Biography (Wiki)

Rohit Sharma

Childhood & Parents

Rohit Sharma का जन्म बनसोद, नागपुर, महाराष्ट्र के ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनकी माता पुर्णिमा शर्मा विशाखापट्नम से थी, इस कारण वे तेलुगू भाषा भी जानते हैं।

उनके पिता गुरुनाथ शर्मा एक ट्रांसपोर्ट फर्म स्टोरहाऊस में Caretaker का काम करते थे। पर इतना इनकम नहीं होता थी कि घर के खर्च के साथ उनकी पढ़ाई-लिखाई का भी खर्च उठा सके।

इसलिए बचपन में Rohit Sharma अपने Grandparents और Uncle के साथ बोरीवली में रहते थे। Weekend पर वे अपने पैरेंट्स से मिलने के लिए जाया करते थे, जो डोमविबली में एक सिंगल रूम घर में रहते थे।

उनका एक छोटा भाई भी है। विशाल शर्मा, जो मम्मी-पापा के साथ ही रहते थे।

Rohit Sharma बचपन से ही क्रिकेट के सोखिया प्राणी थे। टीवी पर आनेवाले किसी भी मैच को मिस नहीं करते थे और वे गली क्रिकेट में भी अच्छे थे। इस कारण वे अपने बिल्डिंग में विख्यात थे, क्योंकि उन्हें लोग मैच खेलने के लिए बुलाया करते थे। कुख्यात भी थे, क्योंकि वे लोगों के घरों के विंडोज की काँच को अपने शॉट से तोड़ दिया करते थे। एक बार तो इस बात को लेकर पुलिस कमप्लेन भी हुआ था।

School Life

बरहाल, क्रिकेट के आशिक, Rohit Sharma ने 1999 में अपने Uncle के पैसों से एक Cricket Camp को जॉइन कर लिया। वहाँ के कोच दिनेश लाड़ ने उन्हें स्कूल चेंज कर Swami Vivekanand International School में जाने को कहा, जहां वे खुद कोच थे और बेहतर क्रिकेट फेसिलिटीज़ भी मौजूद थी।

इस बारे में Rohit Sharma कहते है ,

मैंने उनसे कहा कि नया स्कूल में जाना मैं Afford नहीं कर सकता हूँ। तब उन्होंने मुझे चार साल के लिए Scholarship दी। मैंने अच्छा क्रिकेट खेला।

शुरुआत में रोहित एक ऑफ स्पिनर बनना चाहते थे। पर जब कोच ने उनमें उच्च लेवल की बैटिंग स्किल को देखी तो उन्हें नंबर 8 पर खेलने के बजाय ओपन करने को कहा।

जल्द ही सब ने उनके बेहतरीन और टॉप टेक्निक बैटिंग स्किल को जाना, जब उन्होंने Harris and Giles Shield School Cricket Tournaments में ओपनर के रूप में डेब्यु करते हुए शतक ठोका।

वे मैच खेलने के अलावा Indian Cricket Players के भी बड़े फैन थे। Star Sports के Heroes Episode में इस बात को कुबूल करते हुए एक घटना के बारे में बताते है, जब वे स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ते थे।

वे कहते है,

जब मैं 13 साल का था। तब हम बोरीवली में रहते थे। वहाँ एक शिवसेवा ग्राउंड था। जिसका इनागुरेट करने के लिए Virendra Sehwag आने वाले थे। हम स्कूल बंक कर उनसे मिलने चले गए। लंच में हमने सर से कहा कि हमारा तबीयत ठीक नहीं है। यह कहते हुए स्कूल से हम चले गए। नैक्सट डे ही लोकल अखबार में वीरेंद्र सेहवाग के साथ हम सबका फोटो आया। हम फंस गए। प्रिंसिपल ने हमसे कहा कि तुम तो कह रहे थे कि तुम्हारा तबीयत ठीक नहीं है और घर जाना चाहते हो। तब मैंने मैम को कहा कि हम क्रिकेट के बड़े फैन है। यदि हम सीधे आपसे से परमिशन मांगते तो आप जाने नहीं देती। इसलिए हमें स्कूल बंक करना पड़ा। तब उन्होंने कहा कि ठीक है।

Cricket Career

Rohit Sharma ने 2005 में वेस्ट जोन के लिस्ट A के लिए सेंट्रल जॉन के खिलाफ देवघर ट्रॉफी में डेब्यु किया। जिसमें उन्होंने नॉर्थ जॉन के खिलाफ उदयपुर में Unbeaten 123 बॉलों पर 142 रन बनाए। जिसने उन्हें घरेलू मैचों में एक नई पहचान दी।

उन्होंने 2006 में फ़र्स्ट क्लास मैचों में India A के लिए New Zealand A के खिलाफ डार्विन में डेब्यु किया।

उसी साल उन्होंने रणजी के लिए भी डेब्यु किया। पर शुरुआत के दिनों में अच्छे रन नहीं बना सके, सिवाय 267 बॉलों पर 205 रन, जिसे वे गुजरात के खिलाफ बनाए थे।

फरवरी 2007 में मुंबई VS बंगाल के बीच खेले जा रहे रणजी मैच में, जिसमें सचिन तेंदुलकर भी खेल रहे थे, अर्धशतक लगाकर मुंबई को जिताया।

2007 में उन्हें आयरलैंड के खिलाफ ODI में डेब्यु करने का मौका मिला। पर आयरलैंड की इस टूर पर एक भी बार उन्हें बैटिंग करने का मौका नहीं मिला। इस कारण वे 20 सितंबर 2007 को इंटरनेशनल लेवल पर पहला रन बनाए।

2007 ICC World Twenty20 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हार की कगार पर खड़े Indian Team, जो 61-4 थी, Mahendra Singh Dhoni के साथ मिलकर 85 रन की पार्टनरशिप निभाते हुए रोहित शर्मा ने टीम की जीत को पक्की की। उन्हें इस जुझारू परफ़ोर्मेंस के लिए Man of the Match Award दिया गया।

वे उस वर्ल्ड Cup के फाइनल में भी पाकिस्तान के खिलाफ शानदार 16 बॉलों पर 30 रन बनाए, जो India Team की जीत की एक बड़ी वजह बनी।

उन्होंने अपना पहला अर्धशतक 18 नवंबर 2007 को जयपुर में पाकिस्तान के खिलाफ बनाया। पर कुछ समय बाद उनका परफ़ोर्मेंस धीरे-धीरे डाउन होने लगा। जिसके कारण इंडियन टीम में उनके जगह सुरेश रैना खेलने लगे और रिजर्व खिलाड़ी की जगह विराट कोहली ने ले लिया।

ये रोहित के स्ट्रगल के दिन थे। जिसमें वे इंडियन टीम में कम-बैक के लिए हर कोशिश करते थे। वे योगा की भी मदद लेते थे।

2013 में उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच में डेब्यु किया, जिसमें उन्होंने लाजबाव 177 रन बनाए। पर एक शानदार शुरुआत के बावजूद टेस्ट मैचों में उतने सफल नहीं हुए, जितना Expect किया गया। वर्तमान में उनकी टेस्ट टीम में कोई जगह नहीं है।

शर्मीले रोहित T20 और ODI मैचों में काफी सफल रहे है। इसका सबूत है उनकी ODI मैचों में Australia के खिलाफ 209 रन और Shri Lanka के खिलाफ 264 रन। और ODI में दो दोहरा शतक बनाने वाले वे दुनिया के इकलौते बल्लेवाज़ है।

आखिर वे ODI Matches में इतने सफल क्यों है ?

जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा,

बचपन में मेरे पास बैट के लिए पैसा नहीं हुआ करता था। इसलिए मैं कभी Cross Batted shot नहीं खेलता था। हर शॉट सीधे बैट से ही खेलने की कोशिश करता था। जिसके कारण बैट पर कम प्रेसर पड़ता था। जो मेरे बैट की लंबे जीवन के लिए अच्छा था और आप जानते है, जो सीधा बैट से खेलता है, वो लंबा टिकता है।

जब उनसे Test मैचों में असफलता के बारे पूछा गया तो ?

मैं हमेशा से कोशिश करता हूँ कि टेस्ट मैच के लिए खुद को पूरी तरह से ढाल लूँ। कोशिश बरकरार है। Naturally मैं धीरे नहीं खेलता हूँ। पर मैं अब ODI में शुरुआत में धीरे-धीरे खेलता हूँ और जब जम जाता हूँ, तो अपना Natural Game खेलता हूँ।

उन्होंने दो बार मुंबई इंडियंस को अपने कैप्टनशीप में IPL का विजेता बनाकर एक बेहतर कैप्टन होने के गुण को भी दिखाया। विराट कोहली का भी मानना है कि भविष्य में रोहित इंडियन टीम के एक अच्छे कैप्टन भी हो सकते है।

Personal Life

आखिरकार अपनी मैनेजर और बचपन की दोस्त रीतिका सजदेह को 6 साल से डेट कर रहे Rohit Sharma ने 13 दिसंबर 2015 को उनसे शादी कर लिया।

खबरों के अनुसार, इंडियन क्रिकेट टीम के यूवी रीतिका सजदेह को अपनी बहन मानते है। यूवी ने रीतिका सजदेह से राखी बंधवाते हुए फोटो को ट्विटर पर पोस्ट किया था।

Cricket Records

1। दुनिया में ODI में सबसे अधिक व्यक्तिगति स्कोर -264 रन
2। ODI में दोहरा शतक मरने वाले इकलौता बेस्टमेन है।
3। एक ODI में सबसे अधिक छक्का लगाने वाले (16 छक्का)
4। Australia में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ODI में सबसे अधिक रन (171 रन) बनाना।

Awards

1। अर्जुन अवार्ड्स
2। टेस्ट मैचों में Man of the match-1, Man of the series-1
3। ODI मैचों में Man of the match-8, Man of the series-4
4।T20 मैचों में Man of the match-3

Quick Fact

Date of Birth – April 30,1987
Age – 29 Years(2016)
Birth Place – Bansod, Nagpur
Height – 5’9″
Weight – 69 KG
Girlfriend/Wife -Sofia Hayat, Ritika Sajdeh
Nickname – Ro, Hitman, Brothaman
Hobbies – इंडोर गेम खेलना, म्यूजिक सुनना और गिटार सुनना

कुछ सवाल जवाब

क्या वें स्मोक करते है – नहीं
क्या वे ड्रिंक्स लेते हैं – नहीं
Favourite Player – Sachin Tendulkar
Favourite Movie – Veer Zara

If You Like it, Please Share and Comment. Thank You.

You May Also Like

About the Author: Ravi Kumar

Hi, I am Ravi Kumar. I like to Design Biographies of Popular and Great People. Join me on Social Sites and Send Your Feedback.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *